प्रसिद्द इतिहासकार कविराज श्यामलदास ने मेवाड़ के गावो की फेहरिस्त में मेनारिया ब्राम्हणों के विभन्न गावों का उल्लेख मिलता है | मेनारिया', 'ब्राह्मण समाज' की उप जाति है और इसे '52 खेड़ा ब्राह्मण समाज' के रूप में भी बुलाया जाता है. यहाँ 'खेड़ा' शब्द गांव का प्रतिनिधित्व करता है. भारतीय जाति व्यवस्था में उचित पहचान हेतु जातियो को उपजातियों में बाँटा गया हैं. इस तरह की उपजाति को बावन खेड़ा (52), (44) चोवालिस खेड़ा, (16) सोलह खेड़ा आदि के रूप में बुलाया गया हालांकि सभी उपजातिया लगभग एक ही तरह की परंपराओं, भोजन व्यवस्था, व्यापार व्यवस्था और अन्य प्रणालीयों को प्रदर्शित करती हैं परंतु जातियो को क्यों विभाजित किया गया? ये शोध का विषय है |


menra

हमारा मेनार गाँव

  • गाँव मेनार
  • ईटाली
  • गिर्वा उदयपुर
  • खेरोदा
  • गाँव गवरडी
  • गाँव खरसाणा
  • गाँव चीरवा
Button

हमारा मेनारिया समाज अपडेट्स

आओ मिल कर समाज को आगे बढायें

मेनारिया ब्राह्मण समाज की एक उप जाति है और यह 52 खेड़ा ब्राह्मण के रूप में भी जनि जाती है ! मेनारिया शब्द का प्रमाण जिला चितौड़गढ़ के छोटी सादड़ी तहसील के भँवर माता के वि.स. 547 (र्इ. सन 490) के शिलालेख में भी मिलता है।

1+
खेड़ा ब्राह्मण
1+
संपर्क
1+
उदयपुर आकर्षण

Latest News

Our Weekly Blog

Lorem ipsum dolor sit amet, consectetuer adipiscing elit. Aenean commodo ligule eget dolor. Aenaen massa, Cum soolis natoque penatibus et magnis dis parturient montes nascetur ridiculus mus

gulab-bagh-garden-udaipur

पार्क

गुलाब बाघ उदयपुर

10 Views
10 Likes
10 comments

Post By: राजीव शर्मा

गुलाब बाघ उदयपुर

Read More
jagdish-temple-udaipur

मंदिर

जगदीश मंदिर

10 Views
10 Likes
10 comments

राजीव शर्मा

जगदीश मंदिर

Read More

जानकारी

क्या है 16 संस्कार, हिंदू धर्म में इनका क्या है महत्व?

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ सनातन हिन्दू धर्म एक शाश्वत और प्राचीन धर्म है। यह एक वैज्ञानिक और विज्ञान आधारित धर्म होने के कारण निरंतर विकास कर रहा है। माना जाता है कि इसकी स्थापना ऋषियों और मुनियों ने की है। इसका मूल पूर्णत: वैज्ञानिक होने के कारण सदियां बीत जाने के बाद भी इसका महत्व कम नहीं हुआ है। 


प्रारम्भिक काल में हिन्दू समाज में गुरुकुल शिक्षा प्रणाली के अनुसार शिक्षा दी जाती थी, जो वैज्ञानिक होने के कारण विकासोन्मुख थी। सोलह संस्कारों को हिन्दू धर्म की जड़ कहें तो गलत नहीं होगा। इन्हीं सोलह संस्कारों में इस धर्म की संस्कृति और परम्पराएं निहित हैं जो निम्र हैं

गर्भधारण संस्कार 
नामकरण संस्कार 
कर्णवैध संस्कार 
समावर्तन संस्कार 
पुंसवन संस्कार 
निष्क्रमण संस्कार 
उपनयन (यज्ञोपवीत) संस्कार 
विवाह संस्कार 
सिमन्तोंनयन संस्कार 
अन्नंपाशन संस्कार 
वेदारम्भ संस्कार 
अग्नि परिग्रह संस्कार 
जात - कर्म संस्कार 
चुडाक्रम संस्कार 
केशांत संस्कार 
त्रेताग्नि संग्रह 
Button

Our Testimonials

Clients Feedback

Lorem ipsum dolor sit amet, consectetuer adipiscing elit. Aenean commodo ligule eget dolor. Aenaen massa, Cum soolis natoque penatibus et magnis dis parturient montes nascetur ridiculus mus

जिंदगी की, ठीक से जब जान जाओगे; ख़ुशी में रो पड़ोगे; और गमों में मुस्कुराओगे । 

खुद से बहस करोगे तो, सारे सवालों के जवाब मिल जायेंगे; अगर दूसरों से करोगे तो, और नये सवाल खड़े हो जायेंगे ।


team1-3
हक़ीक़त जिंदगी की अनमोल वचन

जिंदगी निकल जाती है ढूँढने में कि, ढूँढना क्या है ? 

अंत में तलाश सिमट जाती है इस ‘सुकून’ में कि जो मिला, वो भी कहाँ ‘साथ’ लेकर जाना है ।


home1-1
जीवन के अच्छे विचार अनमोल वचन

  कोई भी व्यक्ति हमारा मित्र या शत्रु बनकर संसार में नही आता, हमारा व्यवहार और शब्द ही लोगो को मित्र और शत्रु बनाते है, 

फर्क सिर्फ सोच का होता हैं सकारात्मक या नकारात्मक वरना सीढियां वही होती है, जो किसी के लिए ऊपर जाती हैं, और किसी के लिए नीचे आती है।

home1-10
शिक्षाप्रद विचार अनमोल वचन

Latest Campaign

Donations

Lorem ipsum dolor sit amet, consectetuer adipiscing elit. Aenean commodo ligule eget dolor. Aenaen massa, Cum soolis natoque penatibus et magnis dis parturient montes nascetur ridiculus mus

The Kono Fund
Reached: $1000
Goal: $5000
Dharma School
Reached: $1000
Goal: $5000
Temple Building
Reached: $1000
Goal: $5000

शिक्षा सब का अधिकार वो भी हमारे एक्स्पर्ट्स के साथ

वैबसाइट पर जाए